Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

घूसखोर राजस्व कर्मचारी चढ़ा निगरानी के हत्थे

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

बिहार—–

पटना:एक कहावत है कि मूलधन से ज्यादा सूद प्यारा होता है। इसी तरह कुछेक सरकारी कर्मियों के लिए वेतन-भत्ता से ज्यादा प्यारा घूस के पैसे होते हैं। आजकल बिहार में आये दिन घूसखोर पकड़े जा रहे हैं लेकिन उसका कोई असर घूस के पैसे लेनेवाले कर्मचारियों पर नहीं पड़ता है। यही कारण है कि घूसखोरी नहीं रुक रहा है।
मिली जानकारी के अनुसार गोपालगंज जिला फुलवरिया थाना के सवनहां निवासी अभय तिवारी ने 31-8-2021 को पटना स्थित निगरानी अन्वेषण ब्यूरो में शिकायत की थी कि फुलवरिया अंचल के चमारीपट्टी पंचायत के राजस्व कर्मचारी गोपाल सिंह रास्ता खुलवाने के लिए 10 हजार रुपए घूस मांग कर रहा है। शिकायत दर्ज करने के बाद निगरानी विभाग ने अपने स्तर से शिकायत का सत्यापन कराने के बाद डीएसपी अरुण कुमार पासवान के नेतृत्व में एक छापामारी टीम का गठन कर गोपालगंज के लिए रवाना कर दिया।
निगरानी टीम गोपालगंज के बथुआ बाजार स्थित सुभाष राय के किराये के मकान से राजस्व कर्मचारी को 10 हजार रुपये घूस लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। निगरानी के हत्थे चढ़े गोपालगंज के घूसखोर राजस्व कर्मचारी (अनुबंधित) गोपाल सिंह को गुरुवार को मुजफ्फरपुर स्थित विशेष निगरानी कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने सुनवाई के बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया। बताते हैं कि अभियोजन की ओर से स्पेशल पीपी अरुण कुमार चौधरी ने सरकार की ओर से पक्ष रखा। कोर्ट में निगरानी की ओर से जब्ती भी पेश किया गया। इसमें छापामारी के दौरान जब्त नोट, एफआईआर की काॅपी, स्याही,उसकी बोतल एवं अन्य कागजात दाखिल किये।
फिलहाल राजस्व कर्मचारी न्यायिक हिरासत में जेल में है।
जे.पी.श्रीवास्तव,
ब्यूरो चीफ, बिहार।