Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

जान पर बन आई, लेकिन वफादारों को नहीं छोड़ा, अफगानिस्तान से 200 कुत्ते-बिल्लियों को निकालेगा यह शख्स

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद हजारों लोग वहां से निकलना चाहते हैं। इनमें से ही एक हैं पूर्व ब्रिटिश सिपाही पॉल पेन फार्टिंग। हालांकि पॉल की कहानी अन्य लोगों से काफी अलग है। जहां अन्य लोग अपनी और अपनों की जान बचाना चाहते हैं, वहीं पॉल अपने साथ 200 बिल्लियों और कुत्तों को अफगानिस्तान से लेकर जाना चाहते हैं। काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर हाल ही में हुए विस्फोट के बाद पॉल अपने साथियों के साथ वहां पर फंस गए थे। लेकिन ब्रिटिश सरकार उनकी मदद के लिए आगे आई है और उनके अपने कुत्तों और बिल्लियों के साथ वहां से बाहर निकलने का रास्ता साफ हो चुका है। 

अपने साथियों को नहीं छोड़ा
फार्टिंग अफगानिस्तान में नॉउजैड नाम से एक एनजीओ चलाते हैं। इस एनजीओ में वह स्ट्रीट डॉग्स और कैट्स की देखभाल करते हैं। इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक उनके पास कुल 200 कुत्ते और बिल्लियां हैं। अफगानिस्तान में जब हालात खराब हुए तो हर किसी को अपनी जान बचाने की फिक्र हुई। लेकिन फार्टिंग के लिए यह मुश्किल और बड़ी थी। वजह, वह अपने इन 200 साथियों को छोड़कर नहीं जाना चाहते थे। ऐसे में अपने स्टाफ और 200 कुत्तों व बिल्लियों को ट्रक में लेकर वह काबुल एयरपोर्ट के लिए रवाना हुए। वहां यह लोग पेपरवर्क के लिए गए तो पता चला कि दो घंटे पहले ही नियम बदल दिए गए हैं। 

हमले में बाल-बाल बचे
इसके बाद पेन फार्टिंग ने ट्वीट किया कि बड़ी मुश्किल से एयरपोर्ट पर पहुंचे थे। लेकिन नियमों में बदलाव के चलते वहां से बाहर आना पड़ा। उन्होंने समाचार एजेंसी को बताया कि अचानक हुए हमलों में हमारी जान ही चली जाती। एके-47 लिए एक व्यक्ति अचानक हमारे सामने आते दिखा। अगर हमारे ड्राइवर ने वाहन को मोड़ नहीं दिया होता तो हम उसका निशाना बन चुके होते। फार्टिंग की यह ट्वीट वायरल हो गई और इसके बाद उनकी मदद के लिए ब्रिटिश सरकार सामने आई है। ब्रिटेन की मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस ने भी यह पुष्टि की है कि काबुल हवाई अड्डे पर ब्रिटिश सेना पेन फार्टिंग की मदद कर रही है। डिफेंस सेक्रेटरी के निर्देश पर उनके लिए प्राइवेट चार्टर्ड फ्लाइट का इंतजाम किया गया है। हालांकि ब्रिटिश डिफेंस सेक्रेट्री बेन वॉलेस ने उनसे कहा है कि बचाव कार्य में पेट्स से पहले इंसानों को तरजीह दी जाएगी। इसके बावजूद फार्टिंग के इस काम की पूरी दुनिया में तारीफ हो रही है।

संबंधित खबरें

Source link