Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

पटना के इतिहास को जमीन से बाहर लाने का काम करेंगे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार,खुदाई की मांगी अनुमति

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

बिहार——

पटना: पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाने वाला शहर जिसे आज लोग पटना के नाम से जानते हैं,उसके इतिहास को खंगालने और प्राचीन पाटलिपुत्र को खोज निकालने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कृत संकल्पित नजर आ रहे हैं। तभी तो उन्होंने पटना सिटी की दो जगहों पर खुदाई कराने की बात कही है।
बिहार सरकार की ओर से खुदाई को लेकर भारतीय पुरातत्व परिषद से अनुमति मांगी गई है। बिहार सरकार के कला संस्कृति विभाग द्वारा संचालित बिहार विरासत विकास समिति के जिम्मे प्राचीन पटना के इस गौरवशाली इलाके में इतिहास की परतों पर जमी धूल को झाड़कर इसे प्रकाश में लाने का कार्य होगा।
इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को पटना सिटी के चिन्हित किये गये स्थल गुलज़ारबाग प्रेस भवन परिसर और बीएनआर टीचर्स ट्रेनिंग काॅलेज का निरीक्षण किया। पुरातात्विक खुदाई को लेकर विशेषज्ञों एवं अधिकारियों के साथ कई विन्दुओं पर चर्चा की और आवश्यक निर्देश दिए। गुलजारबाग प्रेस भवन परिसर के निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि पाटलिपुत्र यही है जो पटना साहिब कहलाता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पुरातात्विक खुदाई को लेकर यहां से लोगों को विस्थापित करना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर कहीं सरकारी जमीन है तो वहां खुदाई कराने से बहुत सारी चीजों की जानकारी मिल सकती है। अभी हाल में एक-दो जगहों को चिन्हित किया गया था जिसे देखने मुख्यमंत्री वहां गये थे।
मुख्यमंत्री ने पाटलिपुत्र के इतिहास के विषय में बोलते हुए बताया कि यह पाटलिपुत्र है जिसका इतिहास दो हजार साल पुराना है। अगर एकबार यहां के बारे में पत चल जाये तो बहुत सारे टूरिस्ट यहां आना शुरू कर देंगे। इससे यहां का इतिहास भी सार्वजनिक होगा। नई पीढ़ी के लोग इसके बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे। उन्होंने कहा कि पाटलिपुत्र की खोज करने,उसका इतिहास जानने की इच्छा शुरु से हमलोगों की रही है। लेकिन कहीं कोई जमीन नहीं मिलने से कुछ कर नहीं पा यहे हैं। लेकिन अब इस कार्य को सरकारी जमीन में कर सकते हैं। यहां पर जो स्कूल है उसको एक्सटेंड करने की जरूरत है। एक तरफ बच्चियों के खेलने की व्यवस्था रहेगी और जगह बचेगी उसमें खुदाई की जा सकती है।
निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री के साथ उनके परामर्शी अंजनी कुमार सिंह,उनके प्रधान सचिव दीपक कुमार, प्रधान सचिव चंचल कुमार,कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के सचिव बंदना प्रेयसी,पटना के प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार,पटना के जिलाधिकारी चन्द्र शेखर सिंह,वरीय पुलिस उपाधीक्षक उपेन्द्र शर्मा सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
जे.पी.श्रीवास्तव,
ब्यूरो चीफ, बिहार।