Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी आफिस से रहे नदारद, ताला लगा फोटो हुआ वायरल

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी आफिस से रहे नदारद, ताला लगा फोटो हुआ वायरल

डिबाई/बुलंदशहर:- मुख्यमंत्री ने भले ही अधिकारियों व कर्मचारियों को सुबह समय से कार्यालय पहुंचने का निर्देश दिया हो, लेकिन जिला बुलंदशहर के तहसील डिबाई रेंज के नरौरा में स्थित वन विभाग के आफिस पर इसका पालन होता दिखाई नहीं दे रहा है। शनिवार से एक फोटो/वीडियो वायरल हो रहा हैं। जिसमें विभाग की बड़ी लापरवाही नजर आई है। आपको बता दें कि योगी सरकार ने प्रदेश में लेट लतीफ अफसरों और कर्मचारियों पर सख्ती करने के लिए कितने भी ठोस कदम उठाए गए हो लेकिन डिबाई रेंज के वन विभाग के रेंजर मोहित चौधरी के लिए यूपी के मुखिया योगी आदित्यनाथ के आदेशों से कोई फर्क नहीं पड़ता हैं। रेंज के वायरल फोटो में लगभग एक बजे तक आफिस पर ताला लटकता नजर आया हैं। जब इस मामले में रेंजर मोहित चौधरी से जानकारी लेना चाहा तो पहले तो रेंजर ने फोन ही नही उठाया जब दोबारा अपडेट के लिए फोन किया तो रेंजर का कहना हैं कि आज लेट हो गए थे। लेट होने का कारण पूछा गया तो स्पष्ट जबाव नही दिया गया। इस तरह का कोई पहला मामला नही है जब भी रेंजर मोहित चौधरी से किसी मामले की जानकारी के लिए फोन किया जाता है तो पहले तो फोन उठता ही नही है, अगर फोन उठ जाए तो यह कहकर फोन काट दिया जाता है कि मामले मे जांच की जा रही है, जांच के बाद बताया जाएगा कि किया कार्यवाई की जाएगी। अफसोस की बात यह है कि वो जांच का समय कभी पूरा ही नही होता हैं। बीते दिनो मे सूत्रों के द्वारा जानकारी मिली थी कि एक स्कार्पियो गाड़ी हैं जिस पर न्यायधीश लिखा हुआ हैं, जिसने प्रतिबंधित लकड़ी से भरा ट्रेक्टर रोका हैं। जब इस मामले में डिबाई रेंजर से जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया कि ट्रेक्टर पकड़ा गया है लेकिन जांच की जा रही हैं जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी, लेकिन आज तक उस मामले की रेंजर द्वारा जांच ही पूरी नहीं की गयी और ना ही कोई कार्रवाई की गई। वहीं डिबाई रेंज में कई क्षेत्रों में कहीं पांच, कहीं तीन पेड़, कहीं सात तो कहीं सोलह प्रतिबंधित पेड़ो को काटने की जानकारी मिली तो सभी मामले में रेंजर ने जांच का ही हवाला देते हुए कार्रवाई करने की बात कहकर मामले को टाल दिया गया। आज तक किसी मामले में किया कार्रवाई की गई कोई जानकारी नहीं दी गई। कहीं पांच पेड़ो में से एक ही पेड़ का जुर्माना वसूल कर मामले को टाल दिया, अब हर मामले में जांच का हवाला देते हुए, कार्रवाई हुई तो किया हुआ या नहीं हुई तो कियो नहीं हुई, अब इतना तो उच्च अधिकारी जानते होंगे कि कार्रवाई नहीं होने पर किया जाता है। अब आपको बता दें कि डिबाई रेंज पर रेंजर मोहित चौधरी को चार्ज संभाले लगभग एक माह ही हुआ होगा लेकिन क्षेत्र में खेल खेलना शुरू कर दिया खेल ऐसा कि हर मामले को जांच के नाम टालते हुए नजर आते हैं। बीते दिन रेंजर मोहित चौधरी ने डिबाई रेंज में आने वाली मशीनों का दौरा किया जा रहा था जब इसकी जानकारी लेना चाहा कि आपके द्वारा मशीनों व क्षेत्र में दौरा किया जा रहा है, मशीनों पर किस तरह की खामियां पाई गई हैं तो रेंजर ने उस मामले को भी जांच का हवाला देकर टाल दिया कोई भी स्पष्ट जबाव नही दिया। इतना ही नहीं जब रेंजर क्षेत्र में मशीनों पर घूम रहे थे तब अपने साथ विभाग के अधिकारी व कर्मचारी के अलावा क्षेत्र के प्राइवेट लोगों को अपनी गाड़ी में लेकर मशीनों पर घूम रहे थे। अब देखना होगा कि आफिस पर ताला लटका रहना और क्षेत्र से प्रतिबंधित पेड़ो के कटान पर कोई कार्रवाई नहीं करना, और प्राइवेट लोगों को मशीनों पर लेकर घूमना ऐसे मामले में उच्च अधिकारी किया संज्ञान लेते हैं और उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ के आदेशों की धज्जियाँ उड़ाने वाले अफसर व कर्मचारियों के खिलाफ किया कार्रवाई की जाती हैं।