Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

सो रहा विभाग, खनन माफियाओं का धड़ल्ले से फल-फूल रहा अवैध मिट्टी खनन का कारोबार

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

सो रहा विभाग, खनन माफियाओं का धड़ल्ले से फल-फूल रहा अवैध मिट्टी खनन का कारोबार

 

 

काफी लम्बे समय से डिबाई तहसील क्षेत्र में हो रहा मिट्टी का अवैध खनन, कार्यवाही होने के बाद भी नहीं बंद हो रहा अबैध खनन

 

डिबाई/बुलन्दशहर :- शासन व प्रशासन के लाख प्रयास के बावजूद जनपद में अवैध खनन पर रोक नहीं लग पा रही है। खनन माफिया द्वारा धड़ल्ले से अवैध मिट्टी का काला करोबार किया जा रहा है और खनन विभाग को इसकी भनक तक भी नहीं है या यह कहे कि उनकी सरपरस्ती में ही यह खेल खेला जा रहा है। इस अवैध कारोबार से जहां खनन माफिया मालामाल हो रहे हैं, वहीं हर महीने सरकार को करोड़ों के राजस्व की भी हानि हो रही है।

 

उत्तर प्रदेश में अवैध खनन का खेल थमने का नाम नहीं ले रहा है। चाहे बालू खनन हो या मिट्टी खनन का गोरखधंधा बेरोकटोक चल रहा है। कानून महज कागजों में दर्ज हैं। जमीनी हकीकत कुछ और ही है। मिट्टी खनन के खेल में लिप्त माफियाओं और दबंग हस्तियों के हाथ में है। कोई इसका विरोध नहीं कर सकता। अगर कोई इनका विरोध करता है तो उसको धमकी मिलने लगतीं हैं

 

अवैध खनन के काले कारोबार पर रोकथाम नहीं लगने व उनकी चुप्पी होने पर प्रशासन और पुलिस महकमा की तरफ लोगों के गलत इशारे हो रहें है जिसके चलते क्षेत्र में खामोशी से खनन का धंधा हो रहा हैं। समय समय पर प्रसाशन व पुलिस खनन माफियाओं के छुटभैयों को पकड़-धकड़ कर कभी-कभार औपचारिकता निभा लेते है। अवैध खनन जोर-शोर से चल रहा है। जबकि कुछ समय पहले ही डिबाई तहसील क्षेत्र के गांव इंदौर खेड़ा के नजदीक अवैध खनन की सूचना पर तहसील प्रशासन ने छापा मारकर मौके से एक जेसीबी द्वारा अवैध मिट्टी का खनन करते हुए ट्रैक्टर ट्राली को मौके पर पकड़ कर खनन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की थी लेकिन उसके बाबजूद भी खनन माफिया मिट्टी खनन करने से बाज नहीं आ रहें हैं। इसके बाबजूद भी रात के अंधेरे में और सुबह भी अवैध खनन होते और ट्रैक्टर ट्राली व डम्परो के जरिए होने वाली सिलसिलेवार ढुलाई खुलेआम देखी जा सकती है।

 

अवैध खनन माफिया क्षेत्र में कमा रहें हैं नाम और दाम

 

अवैध खनन में इलाके के माफिया नाम और धन दोनों कमा रहे हैं। देहात क्षेत्र की सड़कों पर मिट्टी लेकर दौड़ रहे ट्रैक्टर ट्रॉली और डंपर मौत का सबब बने हुए हैं। इन ट्रैक्टर ट्रॉली और डंपरों के अंधाधुंध चलने से कही भी हादसे हो जाते हैं। देहात क्षेत्र की सड़कों में भी जगह-जगह गड्ढे होने लगे हैं, लेकिन जनपद के प्रशासनिक अधिकारी आखिरकार इनके खिलाफ क्यों कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। आखिर ऐसा कौन-सा दबाव है। जो अधिकारी कार्रवाई करने से अंजान बने हुए है। हम जनपद की बात करे या किसी तहसील क्षेत्र की या डिबाई तहसील क्षेत्र की बात करें हर जगह पिछले कई वर्षों की तुलना में इस बार कई गुना अधिक खनन का कारोबार बढ़ा है। अगर हम डिबाई देहात क्षेत्र की बात करे तो डिबाई देहात क्षेत्र में तो खनन माफियाओं ने सरकारी भूमि पर भी खनन करने से नहीं चूके हैं, भारी मात्रा में ग्राम समाज की सरकारी भूमि जो धर्मपुर रोड पीर बाबा वाली कच्ची रास्ता गालिबपुर से भारी मात्रा में अबैध किया गया, डिबाई देहात व डिबाई कस्बा वर्तमान में हुई प्लॉटिंग में गहरे गहरे गड्ढे थे लेकिन खनन माफियाओं ने अबैध खनन से सभी को समतल करके मोटा धन कमाया है, अबैध खनन डिबाई, नरौरा, कर्णवास, राजघाट, लेदर खेड़ा, गालिवपुर व क्षेत्र के आधा दर्जन से अधिक ऐसे गांव है। जिनके जंगलों में जहां धड़ल्ले से अबैध खनन हो रहा हैं।

 

वहीं, इन खनन माफियाओं के हौसले इतने बुलंद हो रहे हैं कि ये रात भर मिट्टी के डंपर व ट्रैक्टर ट्राली देहात के रास्तों पर दौड़ा रहे हैं। जिनके चलते यहां हादसों का ग्राफ बढ़ सकता है। ये ट्रैक्टर व डंपर चालक अंधाधुंध गति से डंपरों को दौड़ाते हैं। जिनके चलते इन डंपरों के आगे आने से हादसे बढ़ने की सम्भावना रहती हैं। इसके अलावा हाल ही में लोक निर्माण विभाग उत्तर प्रदेश की निधि से बने मार्गों पर ट्रैक्टर व डंपरों के चलने से यह मार्ग जगह-जगह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इनके क्षतिग्रस्त होने से जहां स्थानीय लोगों को परेशानी हो रही है। वहीं, लोगों को हादसों का शिकार होना पड़ रहा है।

 

हाल ही में हो रहें लेदर खेड़ा में खनन की सूचना जब खनन अधिकारी को दी गई और खनन अधिकारी रात्रि में हो रहें मिट्टी खनन के मौके पर पहुँचे और मौके पर ट्रैक्टर में लगे मिट्टी भरने का माजा(लेवलर) मौके पर मिला काफी समय तक जिला खनन अधिकारी वहां पर रुके और ट्रैक्टर को छोड़ कर चले गए जिस समय वहां रखे उनके बीच क्या वार्तालाप हुआ इसकी किसी को कोई जानकारी नहीं पड़ी लेकिन जिस खेत से मिट्टी का खनन क्या जा रहा था वहां कोई कार्यवाही नहीं की गई जब इसकी जानकारी सूट खनन अधिकारी को अवैध खनन की सूचना देने वाले व्यक्ति ने पूछा की रात्रि में जो ट्रैक्टर आपके द्वारा पकड़े गए थे उस पर क्या कार्रवाई की गई है तो खनन अधिकारी सूचना देने वाले व्यक्ति पर ही भड़क उठे और उससे बोले कि तुम ही खनन अधिकारी हो रहे हो तुम तो सारे नियम कानून जानते हो ऐसा बोलते हुए उन्होंने कहां कि तुम अपने घर चले जाओ नहीं तो यह लोग तुम्हें पिटपिटा देंगे, जिला खनन अधिकारी कि ऐसे वार्तालाप से यह लगता है कि इनकी सरपरस्ती में ही अबैध खनन किया जाता हैं और इन खनन माफियाओं के हौसले भी इसलिए ही बुलंद हैं क्योंकि खनन अधिकारी जिस जगह सूचना पर रात्रि में पहुंचे थे वहां खनन का जाल लगा हुआ ठीया और खेत को देख कर यह स्पष्ट नजर आ रहा था कि यहां से मिट्टी का अवैध खनन किया जा रहा है इसके बावजूद भी खनन अधिकारी सूचना देने वाले व्यक्ति को ही पाठ पढ़ाते हुए नजर आए जिससे यह साफ साफ दिखाई देता है कि खनन अधिकारी की सरपरस्ती में ही अवैध खनन का कारोबार फल-फूल रहा है क्योंकि इनके द्वारा खनन माफियाओं के खिलाफ कोई उचित कदम नहीं उठाया जाता है और उनके छुटभैयाओं पर कभी-कभी कार्रवाई कर दी जाती है कोई बड़ी कार्रवाई अमल में नहीं लाई जाती है जिससे खनन माफियाओं के हौसले बुलंद रहते हैं

 

जब इसकी जानकारी जिला खनन अधिकारी से ली गई तो उन्होंने बताया किसी के द्वारा लेदर खेड़ा में हो रहे अवैध खनन की जानकारी रात्रि को दी गई थी लेकिन जब मौके पर रात्रि में पहुंचे तो वहां कोई भी ट्रैक्टर ट्रॉली व जेसीबी नहीं मिली जिसके चलते कोई भी कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा सकती है लेकिन जनपद में जिन क्षेत्रों में जहां अवैध मिट्टी खनन हो रहा है। उन पर छापेमार कार्रवाई की प्रक्रिया को अंजाम दिया जाएगा। ऐसे माफियाओं को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई कराई जाएगी। और पहले भी अबैध खनन पर कार्रवाई की गई हैं

जिला खनन अधिकारी बुलन्दशहर