Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हमारी सभ्यता, संस्कृति तथा परंपराओं से गौ माता का बहुत गहरा और पुराना है नाता- जयमंगल कनौजिया विधायक सदर

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

महराजगंज- मकर संक्रांति पर्व पर सदर विधायक जयमंगल कन्नौजिया ने नगर पालिका क्षेत्र के चिउरहा स्थित गोशाला में जाकर गायों की पूजा अर्चना। पूजा अर्चना कर उन्होंने गायों को हरा चारा एवं गुड़ खिलाया। वहीं क्षेत्र के लोगो की सुख शांति की कामना की। विधायक ने कहा कि कहा कि गौ माता का हमारी सभ्यता, संस्कृति तथा परंपराओं से बहुत गहरा और पुराना नाता है। गाय में 33 करोड़ देवी-देवता निवास करते हैं। हमारे धार्मिक ग्रंथों में गाय को माता का दर्जा दिया गया है और उनकी पूजा की जाती है। गाय को हमारे देश में समृद्धि और खुशहाली का प्रतीक माना गया है। हमें गौ माता का पूरा आदर-सम्मान करते हुए गौ संरक्षण करना चाहिए जिसमें केंद्र व प्रदेश सरकार अपनी सक्रिय भागीदारी निभा रही है।विधायक ने कहा कि भारत तीज-त्योहार व उत्सवों की संस्कृति का देश है। विधायक ने कहा कि उनका परम सौभाग्य है कि लोहड़ी और मकर संक्रांति के पावन अवसर पर गोशाला में गौ माता के पूजन का अवसर मिला है। भारत तीज, त्योहार व उत्सवों की संस्कृति का देश है। यहां हर पर्व का विशेष महत्व होता है और सभी त्योहार प्रकृति, पर्यावरण, जल, वायु, कृषि, संस्कृति, परम्परा तथा गौ संरक्षण से संबंधित हैं। गौ माता सर्वश्रेष्ठ, पवित्र, पूजनीय और संसार भर में उत्तम हैं। इनके दूध, दही, घी के बिना संसार में यज्ञ सम्पन्न नहीं होते। गौ माता में सदैव लक्ष्मी निवास करती है। उन्होंने कहा कि खेत खलिहान एवं पशुधन संभाल करके हमने अपनी समृद्धि का ताना-बाना बुना है। गौवंश हमारी अर्थव्यवस्था का आधार रहा है। गोधन कृषि प्रधान ग्रामवासियों भारत माता के गांवों की तो जीवन रेखा है। आज विज्ञान ने भी यह साबित कर दिया है कि जिस बच्चे को मां का दूध प्राप्त न हो उसके पालन-पोषण के लिए गाय का दूध सर्वोत्तम और सर्वश्रेष्ठ होता है। इस अवसर पर नगर पालिका के वरिष्ठ लिपिक शमीम खान, सभासद प्रदीप गौड़, पूर्व सभासद सरजू गुप्ता, राजकुमार, संजीव शुक्ला सहित तमाम लोग मौजूद रहे।